There was an error in this gadget

Thursday, November 19, 2009

tsaMj ftgkn
lc èkku ckbl ialsjh\
'khck vlye Q+geh
fiz; jktsUnz th]
gal ¼ebZ 2009½ esa vkius viuh le> ls cM+s t+:jh vkSj pqukSrhiw.kZ loky mBk, gSa- Lokr o blds vklikl
py jgs rkfyckuh rkaMo ls ;g loky vkSj Hkh egRoiw.kZ o lkef;d gks mBs gSa- vkius lgh dgk gS fd eSa eqfLye
yM+fd;ksa ds i{k esa tks rdZ ns jgh gwa og dqjku ls gh gSa vkSj ;g Hkh lgh gS fd ^eSa Hkh viuh ckrsa cp&cp
dj dg jgh gwa-*
bl LraHk ds igys ys[k esa gh eSaus ?kksf"kr :i ls r; fd;k Fkk fd ;g LraHk ^eqlyeku efgykvksa dks fir`lÙkk
o enZoknh lkekftdrk ls eqDr dj U;k;] cjkcjh vkSj vkRelEeku dk jkLrk fn[kkus ds fy, gS tks fd mUgsa
muds èkeZ us gt+kjksa lky igys fn;k Fkk ij eè; ,f'k;k] vjc Hkwfe ds d+chykbZ laLÑfr ds lektksa us] bLyke
dh fo'kq) enZoknh O;k[;k dj gM+i fy;kdqjku
ds ekè;e ls ukjhoknh psruk fodflr djuk vkidks D;ksa vViVk yx jgk gS ;g esjh le> esa ugha
vk;k D;ksafd bl gh laikndh; esa Lo;a vki fy[krs gSa fd ^^mèkj ^Lokr* esa rkfyckuksa ds d+gj dh fny ngyk
nsus okyh rLohjsa jkst+ vk jgh gSa vkSj lkjs eqfLye laxBu pqi gSa---fdlh us ugha dgk fd ;g bLyke gekjk ugha
gS---\** jktsUnz th vkidks rkfyckuksa dh HkRlZuk eqfLye laxBuksa ls gh D;ksa pkfg,\ blfy, fd vki tkurs
gSa fd ckd+h dh nqfu;k bUgsa fdruk Hkh x+yr Bgjk,] tc rd [kqn bLykeh nqfu;k budh gjdrksa dks bLyke
fojksèkh dgdj bUgs vijkèkh ?kksf"kr ugha djsxh ;g vius ,tsaMs dks ^et+gc dh f[k+ner* dgdj Lo%LQwrZ cus
jgsaxs- fcYdqy ;gh ekeyk eqlyeku vkSjrksa ij bLyke ds uke ij yx jgh ikcafn;ksa dk Hkh gS- rkfyckuh fnekx+
tgka&tgka Hkh eqlyeku vkSjrksa ij bLyke ds uke ij neu dj jgs gSa ogka&ogka bLyke ds t+fj, gh mUgsa lgh
jkLrk fn[kkus dh t+:jr gSblh
lanHkZ esa vkids laikndh; dk nwljk vkSj T+;knk egRoiw.kZ fojksèkkHkkl is'k djrh gwa- vkius fQ+Ye ^[+kqnk
ds fy,* dk mykguk fn;k fd ,slh vPNh fQ+Yesa eqfLye lekt esa O;kid cgl D;ksa ugha iSnk djrha\ jktsUnz
th bl fQYe dk lkj D;k gS\ ;gh u fd rkfyckuh ekSykuk rkfgjh ds dV~Vj bLykeftlesa tsgkn] laxhr
ls uQ+jr] L=kh&f'k{kk dk fojksèk] enZoknh L=kh&iq#"k lacaèk] vkèkqfud oL=k&f'k{kk&thou'kSyh dk fojksèk] if'pe dk
fojksèk dk vR;ar rkfdZd mÙkj ekSykuk oyh bLyke dh f'k{kk] bfrgkl o O;k[;k ls nsdj ekSykuk rkfgjh dks
ijkLr dj nsrs gSa- fQ+Ye esa ;g n`'; ikfdLrku ds ,d ^lsD;wyj&dksVZ* esa ?kfVr gksrk gS ftlds U;k;kèkh'k dks
Hkh ekSykuk rkfgjh bLyke ds uke ij t+yhy djds pqi djk nsrk gS vkèkqfud&lsD;wyj d+kuwu ds rdZ ekSykuk
rkfgjh dks fopfyr ugha dj ikrs- og tt dk vieku dj vkèkqfud dkuwu O;oLFkk dks bLyke fojksèkh dgrk
jgrk gS- ij tc ekSykuk oyh bLyke esa laxhr] f'k{kk] fudkg esa L=kh dh et+hZ] gyky dekbZ] vkèkqfud os'kHkw"kk
o oL=k vkfn dks bLykeh bfrgkl] d+qjku dh O;k[;k o eksgEen lkgc ds thou ls mnkgj.k ysdj fl) djrs
gSa rks ekSykuk rkfgjh ds x+qCckjs dh gok fudy tkrh gS vkSj mldk xqejkg fd;k ukStoku ljen mldh gh efLtn
esa thal&Vh&'kVZ esa vt+ku nsdj mls pqukSrh Hkh ns ikrk gS- jktsUnz th bl fQYe dh eqag Hkj&Hkjdj rkjhQ+ djus
ds ckn vki eq>s mykguk ns jgs gSa fd ^eSa d+qjku gnhl o lqUu% dks gh u, lanHkks± esa O;k[;kf;r djus yxrh
gwa\**
vkids vuqlkj eqlyeku vkSjrksa esa ukjh psruk tkx`r djus ds fy, eq>s if'pe dh ^jS'kusYVh* ;kuh oSKkfud
twu] 2009
^rkfdZdrk* dk mnkgj.k nsuk pkfg,\ osfVdu ds iknfj;ksa fd felkysa nsuh pkfg,\ tks euq";ksa dks bl ^rdZ*
ij ^lUr* dh mikèkh ls foHkwf"kr djrs gksa fd ml balku us ^fejsdy* ;k ^vykSfdd peRdkj* dj fn[kk;k gks\
enj Vsjslk dk mnkgj.k vHkh iqjkuk ugha gqvk gS- oSKkfud rkfdZdrk vkSj vykSfdd peRdkjnksuksa dks vkRelkr
dj ikusokyh vkidh rkfdZdrk dk vkèkkj 'kk;n ;g gS fd if'pe lekt ds vkèkqfud bfrgkl ;kuh
^,UykbVsUesUV* dk vkius vè;;u fd;k gS vkSj mlds }kjk fn, x, cjkcjh] d+kuwu dk jkt] O;fDrokn] U;k;]
Lora=krk] iztkra=k tSls ewY;ksa dks fo'kq) ;wjksih; vkfo"dkj eku fy;k gS- vkSj osVhdu o dSFkksfyd ppZ D;ksafd
;wjksi esa fLFkr gSa] rks ;g Hkh blh vkèkqfud
[k+Sj] ;gka eqn~nk ;g ugha gS- eqn~nk ;g gS fd Hkkjr tSls rhljh nqfu;k ds lcls ncs&dqpys] vui<+] nfer
L=kh oxZ ls vki oSKkfud o jS'kuy fMLdkslZ esa ckr djuk pkgrs gSa- D;k ;g dqN tYnckt+h ugha gS\ vkids
laikndh; dk rhljk fojksèkkHkkl ;g gS fd vki rqdhZ ds bLyke ;k baMksusf'k;k ds bLyke dh rkjhQ+ Hkh dj
jgs gSa vkSj iwjs fo'o ds bLyke dks ,d Hkh eku jgs gSa- D;k vki ;g ugha ns[k ikrs fd tks {ks=k bLyke iwoZ
dh d+chykbZ O;oLFkk esa tdM+s gSa ogha ij fL=k;ksa ij vR;kpkj vfèkd gSavjc]
vÝ+hd+k vkSj eè; ,f'k;k ds vQ+xkfuLrku vkSj ikfdLrku ftlesa] Hkkjrh; iatkc&gfj;k.kk o fnYyh
Hkh 'kkfey gSa] esa d+chykbZ pfj=k o ekufldrk L=kh neu dk dkj.k gSa- gfj;k.kk] iatkc o fnYyh esa ^vkWuj
fdfyax* ^vkèkqfud* fganw lekt dh Øwj lPpkbZ gS ;k ugha\ vkidks Kkr gksxk fd vkt Hkh csVh ds x+Sj&fcjknjh
esa 'kknh dj ysus ij vejhdk&dukMk esa cls fganw o fl[k ifjokj ^lqikjh&fdfyax* djok nsrs gSa- vejhdh ^jS'kuy*
vkèkqfudrk Hkh bu d+chykbZ ifjos'k ls vk, i<+s&fy[ks fo'o ukxfjdksa dk dqN ugha fcxkM+
ikrh- gfj;k.kk vkSj iatkc esa rks iqfyl o LFkkuh; usrk Hkh bu ^vkuj&fdfyax* dks vukfèkdkfjd :i ls tk;t+
Bgjkrs gSa D;ksafd muds vuqlkj Hkh ,slh ^dqyVk csfV;ksa* dks ;gh lt+k feyuh pkfg,-
nwljh rjQ+ :l ls vyx gq, ikap eqfLye ns'kksa] phuh eqfLye lekt] baMksusf'k;k] eysf'k;k] flaxkiqj] vkSj
;ksjksi o vejhdk tgka eqlyeku nwljh lcls cM+h vkcknh gSa ls ,slh ?kVuk,a lquus esa ugha vkrh] gkykafd bLyke
dh fycjy O;k[;k dh dksf'k'ksa ;gka Hkh tkjh gSa- mÙkj Hkkjrh; eqfLye lekt Hkh d+chykbZ o ¶+;wMy pfj=k ls
eqfDr ugha ik ldk gS- tcfd egkjk"Vª] dsjy vkfn ds eqlyeku mnwZ&fganh {ks=k ds eqlyekuksa ls T+;knk fycjy
o f'kf{kr gSavkius
esjs cgkus eqfLye lekt ls ;g Hkh iwNk gS fd ^^d+qjku vkSj 'kfj;r ds baVjfizVs'ku ¼O;k[;k,a½ gh
rkfyckuksa ds fn'kk&funsZ'k curs gSa vkSj fQ+nk;huksa dk fuekZ.k djrs gSa-** jktsUnz th] dk'k èkeZ ds izfr vkidh
>qa>ykgV vkSj x+qLlk] vkidks vkSj xgjs vè;;u o fo'ys"k.k dh vksj izsfjr dj ikrk- ^rkfycku* ds dqdeks±
ls ysdj csekuh fgalk rd tks dqN Hkh gks og bLyke ;k d+qjku lEer blfy, ugha cu tkrk D;ksafd mls vjch
Hkk"kk ds fdlh 'kCn ls iqdkjk tkrk gS- ^rkfycku*] ^eqtkfgnhu*] ^y'dj*] ^fQ+nk;hu*] ^tsgknh*] ^tS'k* vkfn
vjch 'kCnksa dh vkM+ esa vQ+he o voSèk gfFk;kjksa ls ysdj fl[kksa ls tft+;k olwyus tSls tks xksj[kèkaèks py jgs
gSa og fo'kq) vkèkqfud ^ioZjtu* gSa] ftUgsa ^bLykeh* xfrfofèk;ka ekudj vki bu fxjksgksa dks èkkfeZd oSèkrk
ns jgs gSa- fo'o fcjknjh budh gjdrksa dks ftruk ^bLyke* ls tksM+sxh ;g mrus gh etcwr gksaxs- bu ?kVukvksa
dks ^bLykfed vkbfM;y Vkbi* dh igpku nsuk gh lcls [k+rjukd Hkwy gS- vkSj ;g vkils pkgrs Hkh cl bruk
gh gaS fd budh gjdrksa dks ^bLykeh* ekuk tk, ftlls tulkèkkj.k Hkzfer gks vkSj bUgsa O;kid fojksèk dk lkeuk
u djuk iM+s- muds eueqvkfQ+d+ ;g x+yrh vki tkudkjh dh deh ds dkj.k djrs gSa] vejhdk bls izk;ksftr
djrk gS] ftlls fd mls bu lektksa dks ^lqèkkjus] yksdrkaf=kd o lH;* cukus ds vfèkdkj izkIr gks ldsa- ¼t+jk
,MoMZ lbZn dh ^vksfj;UVy fFk;jh* nksgjk yhft, rks le> esa vk,xk fd½ ;g vjch ukeksaokys vkanksyu o
nLrs tks 1400 lkyksa esa dHkh ugha cus] vc dqdqjeqÙkksa dh rjg D;ksa mx jgs gSa\
^rkfycku* dk izk;kstd vejhdk ds flok dkSu gS\ D;k T+;knk cM+k loky ;g ugha fd bu voSèk fxjksgksa
ds ikl dHkh u [k+Re gksus okyh vR;kèkqfud gfFk;kjksa dh fuckZèk lIykbZ dgka ls gks jgh gS\ D;k buds ikl
ce] ykapj] eksVkZj] felkby] VSad] ,-ds- 47 xzsusM tSls vfrvkèkqfud gfFk;kjksa o midj.kksa dh mRiknu rduhd
o {kerk gS\ ;g dSls vpkud bu egaxs vkSj lVhd gfFk;kjksa ds lkFk fcyksa ls izdV gks tkrs gSa\ dkSu&lk ckt+kj]
ra=k o ,tsafl;ka gS tks gfFk;kjksa dh fcØh o mUgsa bu gokbZ&iV~Vhfoghu chgM+] nqxZe LFkkuksa rd ^,;j fy¶V*
o ^Mªki* dj jgh gSa\ bruh cM+h la[;k esa lkefjd lkt vks lkeku fcuk fdlh dh ut+j esa vk,] bu fBdkuksa
ij dSls igqaprk gS\ fo'o Hkj esa py jgh eUnh dk vlj bu fxjksgksa dh xfrfofèk;ksa ij D;ksa ugha fn[krk\
;k dgha ,slk rks ugha fd fdUgha ^ckt+kjksa* dh eanh dks bUgha [k+jhnkjksa ds t+fj, mckjk tk jgk gks\
vejhdk] bt+zkby] phu tSls gfFk;kjksa ds nqdkunkjksa dh ^èkeZfujis{k rVLFkrk* muls ;g loky ugha djrh
fd vkf[k+j mudk cuk;k&cspk eky dgka [ki jgk gS\ tc Hkkjr esa vkradokfn;ksa ls feys NksVs gfFk;kjksa ls ;g
rqjar fpfUgr gks tkrk gS fd ;g gfFk;kj dgka dk mRiknu gS rks ogka ;q)&VSdksa o jkWdsV&ykapjksa ds [kqysvke
iz;ksx ds ckotwn ;g loky dksbZ D;ksa ugha mBkrk\ Lo;a vesfjdk gh ;g cqfu;knh loky D;ksa ugha djrk\
vkf[k+j ;g dksbZ NksVs&NksVs ghjs&tokgj rks gS ugha fd iBku viuh 'kyokj ds usQ+s esa Nqikdj rLdjh dj ys\
buds mn~xe dk LFkku r; dj ^lIykbZ ij jksd* yxkus ds fy, vejhdk tSlk l{ke xq+aMk pqi D;ksa gS\ D;ksafd
mldk ed+ln nksuksa i{kksa dks gfFk;kj csprs jguk gS cl-
[k+Sj ^bLykfed Q+sfefuT+e* dk ed+ln eqlyeku vkSjrksa dks ;g crkuk gS fd bLyke esa vkSjr gksus dk
eryc vf'kf{kr] ijkfJr] x+jhc] cslgkjk] nq[kh] ?kj dh pkjnhokjh esa can vKkuh gksuk ugha gksrk] ¼mijksDr
c;ku dk eryc ;g Hkh ugha fd orZeku esa eqlyeku vkSjrsa nq[kh gh gSa½ tSlk fd dBeqYys pkgrs gSa- ysfdu
rkTtqc ;g gS fd gj ckj vki tSls rkfdZd cqf)thoh bu dBeqYyksa }kjk izLrqr ^LVhfj;ksVkbi* dh rkbZn D;ksa
djrs gSa\ ;s dgrs gSa bLyke vkSjr dks enZ ls derj le>rk gS rks vki eku ysrs gSa] ;s dgrs gSa fd rkyhckuh
O;oLFkk gh bLykeh O;oLFkk gS] rks vki Hkh ;gh dgrs gSagj
ckj vki rkfyckuksa] eqtkfgnhuksa ds ikys esa D;ksa pys tkrs gSa\ dBeqYyksa] ng'krxnks± dh vrkfdZd o
fgald xfrfofèk;ksa dks vke eqlyeku bLykeh ugha ekurk] ij vki ekurs gSa- bu lÙkkyksyqiksa ds lkFk gka eas
gka feykus esa vki lnSo&lg"kZ rS;kj D;ksa jgrs gSa\ vxj vki ugha tkurs D;ksa] rks eSa gh crk, nsrh gwa] viuh
reke gennhZ vkSj usdfu;rh ds ckotwn lPpkbZ ;g gS fd vki ^bLyke* dks ugha tkurs- vki Lo;a Lohdkj
pqds gSa fd vkius bLyke ds ewyxzaFk d+qjku ds iUus dHkh ugha iyVs- vki eq>s pqukSrh nsrs gSa fd ftl rjg
vkius gal esa 24 lky fganw èkeZ dh cf[k+;k mèksM+h gS D;k eSa ,slk dj ldrh gwa\
D;k vkidks yxrk gS fd fganw&èkeZ vkSj bLyke ,d nwljs dh dkcZu dkWih gSa\ D;k lHkh èkeZ ,d&nwljs dh
ud+y ek=k gSa\ bZ'oj ds vfLrRo dks Lohdkjus ds vykok dksbZ nwljk fcanq ugha tks fdUgha nks èkeks± esa leku gks]
¼;gka rd fd bZ'oj ds xq.k Hkh lHkh èkeks± esa vyx gSa½- vki fganw&èkeZ xzaFkksa dks i<+uk gh dkQ+h le>rs gSa\ fd
dq+jku] 'kjh;r vkSj gnhl 'kk;n xhrk] osn&mifu"knksa ds vjch laLdj.k gSa\ vki rkfdZdrk dks balku dh loksZPp
miyfCèk ekurs gSa vkSj [+kqn dks ,d rkfdZd balku- rks ;g dSlh rkfdZdrk gS tks fdlh n'kZu dks tkus&le>s
fcuk gh] fdlh nwljs n'kZu ds mnkgj.kksa ls jn~n dj nsrh gS\ D;k Hkkjr esa yksdra=k vkSj lafoèkku vkèkkfjr
O;oLFkk dh dke;kch ij blfy, 'kadk trkbZ tk ldrh gS fd og iM+kslh eqYdksa ikfdLrku&vQ+xkfuLrku esa
fiV xbZ\
uCcs ds n'kd ls tc ,d ds ckn ,d lkE;oknh x<+
lkaps esa
ls ysdj Hkkjr rd D;k lkE;oknh fopkj viuh vkarfjd 'kfDr ls iwathoknh x+Sj lekurk o 'kks"k.k dk gy ugha
nsrk\ lksfo;r :l ds fc[kjrs gh Hkkjr dh dE;qfuLV ikfVZ;ksa dks [k+Re djus dh iSjoh D;ksa ugha gqbZ\ blfy,
fd vki bl fo"k; dks tkurs&le>rs gSa vkSj ;g tkuuk&le>uk gh cqfu;knh 'krZ gS jk; ;k Q+Slyk nsus dhpfy,]
d+qjku] gnhl] bLykeh fQ+D+g tSls xk<+s ikB u lgh vki rks rkfycku vkSj vyd+k;nk ds ijs
eqfLye&txr ls lacafèkr ^[k+cjsa* Hkh ugha i<+rs 'kk;n- f'kf{kr eqlyeku ftl bLyke dks cM+s Q+Â+ ds lkFk
viukrk gS vHkh vkius ml ij viuh esgjcku ut+j ugha Mkyh gS- fQ+Ye ^[+kqnk ds fy,* ds ealwj] ljen vkSj
ekSykuk oyh vkt cM+h rknkn esa gSa vkSj c<+ jgs gSa- mUgsa d+qjku ;k dEI;wVj] bYe ;k bcknr] bZeku ;k rdZ]
tSls pquko ugha djus iM+rs- vki ^dBeqYyk* ^bLykfed QaMkeUVfyTe*] ^bLykeh vkradokn* vkfn 'kCnksa ls
rks voxr gSa ij ^ekWMjsV&ekSykuk*] ^bTrsgkn*] ^QsFk fonvkmV fQ;j*] tSls yksdfiz; VeZ vkSj buesa fufgr
laHkkoukvksa ls okfd+Q+ ugha-
;fn d+chykbZ] ccZj] lÙkkyksyqi enZ èkeZ dks foÑr dj vkSjrksa ij t+qYe rksM+ jgs gSa rks ;g vkSj Hkh T+;knk
t:jh gS fd mUgsa mUgha ds gfFk;kjksa ls ijkLr fd;k tk,-
vkius [+kqn dgk fd ^vui<+ vkSj [+kqn eq[+rkj jguqek dc rd vke eqlyeku dh fu;fr r; djrs jgsaxs\*
rks vui<+ jguqekvksa dh tgkyr vkSj lgh bLyke dks lkeus ykus nhft,- vxj dksbZ vijkèkh lafoèkku ds fdlh
igyw dk bLrseky vius vijkèk dks tk;t+ Bgjkus ds fy, djrk gS rks ml d+kuwu dh lgh O;k[;k djus dh
t+:jr gS ;k lafoèkku dks m[kkM+ Qsadus dh\ vkf[k+j iwjs ns'k esa U;k;ikfydk dk cqfu;knh dke lafoèkku dh
lgh O;k[;k gh rks gS- bLyke dh lgh O;k[;k ls bu Øwjrkvksa dks x+SjbLykeh vkSj xqukg fl) fd;k tkuk
blhfy, t+:jh gS ftlls ;g xqugxkj ^[+kqnkbZ f[k+nerxkj* gksus dk
jk; gS fd ^^lkjs èkeZ vrhr&thoh d+chykbZ ;k lkearh gksrs gSa---vrhr dks gh ;wVksfi;k ekurs gSa-
--bLyke ftl l[+rh vkSj Øwjrk ls èkeZ jkT; LFkkfir djuk pkgrk gS og ekuoh; rLohj ugha j[krk-** ;g lgh
ugha gS D;ksafd bLykeh bfrgkl esa dksbZ vkn'kZ dky vHkh rd ugha ekuk tkrk ftldks iqu%LFkkfir djus dk
vkxzg eqlyeku djsa- nwljs] eqgEen lkgc us vjcokfl;ksa dks igyk vkns'k gh d+chys dh oQ+knkfj;ksa ls eqDr
gksus dk fn;k- mUgksaus [k+kunku o cki&nknk dh ijaijkvksa dh ikcanh can djkbZ- mUgksaus xkao] d+chyk] ns'k] Hkk"kk]
uLy] ijaijk,a o jhfr fjokt ds caèkuksa ls eqfDr ds lkQ+ vkns'k fn,- lkjh nqfu;k ds eqlyekuksa dks ,d ^mEe%*
dh igpku nh- tgka rd bLyke ds Øwjrk vkSj ryokj dh uksd ij QSyus dk vkjksi gS] t+jk crkb, fd bfrgkl
esa dHkh fdlh bLykeh lsuk us phu] eysf'k;k] baMksusf'k;k ij vkØe.k fd;k Fkk\ ugha- rks ogka bruh cM+h rknkn
esa fo'kq) phuh uLy ds eqlyeku dgka ls vk x,\ pfy, bfrgkl NksfM+,] orZeku esa vkb,bl vkèkqfud
;qx esa tc vejhdk&;ksjksi&bt+zkbZy dk lewpk izpkjra=k rkfycku] tsgkn] fQ+nk;hu] vkradokn] dks bLyke ls
tksM+dj ^gafVXVuh* Q+rok ns jgk gS] rc bl O;kid izpkj dks vuns[kk dj if'peh&vejhdh&rkfdZd xksjksa ds
chp bLyke dSls QSyrk tk jgk gS\ vkt dkSu&lh ryokj buds xys ij j[kh gS\ vkt yxHkx Hkkjr dh eqfLye
vkcknh ds cjkcj gh phu dh eqfLye vkcknh tks LosPNk ls bLyke esa gS- phu esa bLyke dks u ljdkjh laj{k.k
izkIr gS] u ogka bLyke dh ryokj gS] u eqfLye@vjc ns'kksa ls fudVrk- ;ksjksi o vejhdk esa eqlyeku nwljh
lcls cM+h vkcknh dSls cu x,\ vejhdk] Ýkal] fczVsu] teZuh vkfn ij dc fdlh eqfLye lsuk us vkØe.k
fd;k\
;g lgh gS fd bLyke ,d laLFkkxr èkeZ gS- blesa vkus ;k uk vkus dk QS+lyk balku vkt+knh ls dj ldrk
gS ysfdu ,d ckj bLyke esa vk x, rks bl dyes dks ekuuk gh gS fd ^^vYykg ,d gS vkSj eqgEen mlds
jlwy gSa]** vkSj ;g Hkh fd dq+jku vYykg dk dyke gS- gj èkeZ esa dqN cqfu;knh 'krs± gksrh gS ftUgsa v{kj{k%
Lohdkj fd, cx+Sj vki ml èkeZ dk fgLlk ugha cu ldrs- bZ'oj ;k vYykg dk otwn yxHkx gj èkeZ esa gS
vkSj vxj ;g u gks rks fQj mls ^èkeZ* dgsaxs gh D;ksa\ blfy, tc ,d ukfLrd cqf)thoh ¼jktsUnz ;kno½ ,d
èkkfeZd lewg ls ;g loky djsa fd D;k vki ^dq+jku] 'kjh;r vkSj gnhl ls eqDr ugha gks ldrs\* rks u cqjk
yxrk gS u >qa>ykgV gksrh gS D;ksafd vki ftl vkbySaM ij [kM+s gksdj ;g loky dj jgs gSa mldk ml cM+h
t+ehu ls dksbZ ysu&nsu cpk gh ugha tgka balku [kqn dks ,d fo'okl ds lkFk loksZPp lÙkk ds gokys dj nsrk
gSysfdu
>qa>ykgV rc gksrh gS tc eqfLye lekt dh gj cqjkbZ dh BhdM+k ^bLyke èkeZ* ds flj QksM+ fn;k
tkrk gS- ;g Hkwydj fd ftl lqdjkr&IysVks&vjLrw ds n'kZu ij vkt dk ^bUykbVsuesaV fMLdkslZ* [kM+k gS] mls
if'pe rd bLykeh nk'kZfudksa us gh igqapk;k- vki dgsaxs fd eSa fQj 700 lky ihNs nkSM+ xbZ rks eSa dgwaxh fd
;g crkus ds fy, fd viuh LFkkiuk ds dbZ lkS lkyksa rd bLyke dh mnkjrk vkSj vjch Hkk"kk ds dkj.k gh
if'pe dks ;wukuh Q+ylQ+k vkSj Kku gLrkarfjr gks ldk ojuk ;wjksi esa ^MkdZ ,t* irk ugha dc rd pyrhokftc
loky ;g gS fd tc bLyke ds 'kq#vkrh 'krkfCn;ksa esa eqlyeku lekt bruk mnkj Fkk fd n'kZu o
Kku ds gj lzksr dks [kaxky jgk Fkk rks ckn dh 'krkfCn;ksa esa ;g ijaijk can D;ksa gks xbZ\
bLyke ij ;g rksger Hkh cscqfu;kn gS fd ^^bLyke ,d tM+ et+gc gS] tgka dqN ugha cnyrk vkSj flQ+Z
,d O;k[;k ij lkjs fo'o esa eqlyeku vey dj jgs gSa-**
cgqr 'kq#vkr esa gh bLyke dh pkj vyx&vyx O;k[;k,a gks xbZ Fkha vkSj gj eqlyeku dks ;g vkt+knh
gS fd og fdlh Hkh elyd dks ekus- pkjksa ds 'kfj;k% esa vyx&vyx izkoèkku gSa dqN nwljksa ls T+;knk mnkjoknh
Hkh gSa- blds vykok pkj vkSj elyd cusf'k;k] t+kfgnh] rSehjh vkSj tkQ+jh- ,d vkèkqfud felky nsf[k,
ln~nkWe gqlSu ds bjkd+ esa cgqr ls 'kfj;r izkoèkku f'k;k fQ+jd+s ds ykxw fd, x, D;ksafd os lqUuh 'kjh;r ls
T+;knk mnkjoknh Fks- fdlh vkfye ;k eqfLye eqYd us bl ij dksbZ vkifÙk ugha mBkbZ- tcfd ogh ln~nke f'k;k
bjku ls yM+rk jgk vkSj f'k;k d+kuwu Hkh pykrk jgk- D;k ;g xqatkb'k vkidks fdlh laHkkouk dk b'kkjk ugha
djrh\ gka vxj vki ;gka ij ;g rdZ nsa fd mlus cgjgky ,d bLykeh O;oLFkk gh viukbZ] vejhdh mnkjokn
ugha viuk;k rks fQj eSa dgwaxh fd ,d rks vejhdh O;oLFkk [kqn vius lekt ds fy, Hkh ijQs+DV ugha lks
vPNk gS fd dksbZ mldh ud+y u djs] nwljs ;g fd bLyke ls ckgj tkus dk eqn~nk ugha gS eqn~nk ;g gS fd
[+kqn bLyke esa fdruk yphykiu gSvkils
f'kdk;r ;g gS fd vkius uk rks d+qjku i<+h] u bLykeh U;k;O;oLFkk u n'kZu- bl vHkko esa vkidk
fo'ys"k.k bruk vèkwjk vkSj LVhfj;ksVkbi vkèkkfjr gks tkrk gS fd vki ^pkaneksgEen vkSj fQ+t+k* ;k èkesUZnz vkSj
gsekekfyuh dh eDdkjh dks Hkh bLyke ds lj e<+ nsrs gSa- ;g enZoknh lekt o d+kuwu dh deh gS fd ,d
rks og fookfgr tksM+s dks ^MsM&,UM* ij [kM+k dj nsrh gS fd ;fn fookg ls ckgj vkuk gks rks ,d&nwljs dh
lkoZtfud NhNkysnj ykt+eh gS- nwljs lekt bruk enZoknh gS fd vkSjr iRuh ds ntsZ ds fcuk vlgk; o yfTtr
eglwl djrh gS- jksVh diM+k vkSj edku ls ysdj gj xkjaVh flQ+Z ifr ds jgrs rd gSa- Hkkjrh; lekt igys
rks uktq+d] eklwe] deflu vkSj NqbZ&eqbZ lh iRuh jksekaVhlkbt+ dj mUgha dk mRiknu djrk gS- t+jk irk yxkb,
fd fdl ifjokj dks ^jkuh >kalh* tSlh lcyk cgw pkfg,] vkn'kZ cgw vkt Hkh pqi jgus okyh NqbZ&eqbZ gh gSnwljh
rjQ+ ;g Hkh pkgrk gS fd ifr tc vyx gksuk pkgs iRuh lg"kZ Lohdkj ys- vjs tc vkSjr ,d ijthoh
tarq dh rjg rS;kj dh tk,xh rks og vkt+knh vkSj vkRefuHkZjrk dks dSls Lohdkjsxh\ vkSj ,slh ifRu;ksa ls ihNk
NqM+kus ds fy, bLyke dh ,d ,slh O;oLFkk ¼tks fd iSx+caj lkgc us ^mgwn* ;q)ksijkar enhuk 'kgj ds enks± dks
l'krZ nh Fkh D;ksafd eDdkokfl;ksa ds lkFk tax esa nl izfr'kr ls T+;knk enZ vkcknh ;q) dk f'kdkj gqbZ vkSj
mudh csok o ;rheksa dks lgkjk pkfg, Fkk½ dk bLrseky fganw enZ dj jgs gSa tks fd [+kqn eqlyeku NksM+ pyk
gS- gka] dBeqYyksa dh ckr vkSj gS] os t+:j bls ^gd+* le>rs gSa ij vejhdk] ;ksjksi ls ysdj Hkkjr&phu rd
eqlyeku ,d iRuh fookg gh esa jg jgs gSa- fookfgr tksM+s dks ;g vfèkdkj gS ;k ugha fd ;fn lacaèk [k+jkc
gks tk,a ;k ifr&iRuh ,d&nwljs ls larq"V u gksa rks vyx gks tk,a\ bLyke ;g gd+ nsrk gS fd vxj choh pkgs
rks dksbZ otg u crk, vkSj ^[+kqyk* ys ys- choh dks ;g Hkh gd+ gS fd vius fudkgukes esa gh ;g 'krZ j[k
ns fd tc og vkt+kn gksuk pkgsxh 'kkSgj mls rykd+ nsxk vkSj ;g 'krZ enZ dks ykft+eh rkSj ij ekuuh gksxh
ojuk fudkg [k+kfjt+- gka enZ ij ikcanh gS fd og rykd+ nsus ls igys dq+jku esa nh xbZ fgnk;rksa dk ikyu djs
vkSj choh dks mfpr vkSj mnkj jd+e o lkeku nsdj :[k+lr djs- vkt Hkkjrh; U;k;ikfydk Hkh eqlyeku vkSjrksa
ds ekeys esa bu izkoèkkuksa dks ykxw djok jgh gSafgUnw
èkeZ ds ukjh o nfyr fojksèkh lekukarj bLyke esa t+cjnLrh ugha Bwals tk ldrs- bLyke esa u lrh
gS] u oSèO;] u ifr ijes'oj gS] u dU;knku] u ukjh o nfyr dks osnksa ds Kku ls oafpr j[kus tSlh O;oLFkk]
u fdlh Hkh vkèkkj ij bUlkuksa ds chp Åap&uhp] u Hkxoku vkSj bUlku ds chp iqjksfgr&iafMr tSlk fcpkSfy;kgka
;g t:j gS fd og cqfu;knh 'krZ dh ikcanh gj eqlyeku ij cjkcj gS fd vYykg ,d gS vkSj eqgEen
mlds jlwy- vkSj d+qjku vYykg dk dyke gS- vki d+qjku dh ^O;k[;k* dj ldrs gSa ij dq+jku ds ,d Hkh v{kj
dks cny ugha ldrs- ;g ikcanh bLyke èkeZ ds ewy esa gS ysfdu blls ;g ugha fl) gksrk fd dqjku esa tks
fy[kk gS og vkt ds nkSj esa fujFkZd gS- ,d vkSj felky nwa] lu~ 2003 rd eqlyeku 'ks;j ekdsZV dks tq,ackt+h
dk vM~Mk eku ^gjke* dgrs jgs ysfdu tc yxk fd blds fcuk dke ugha py ldrk rks blh dqjku dh jks'kuh
esa lÅnh vjc o eysf'k;k ls Q+rok ys vk, fd 'ks;j ekdsZV esa iSlk yxkuk gjke ugha gS cl 'kjkc vkfn
gjke pht+ksa ij lkSnk ugha djuk gS- ;gh ekeyk cSfdax dk gS fd FkksM+s ls cnyko ds ckn] ftlls lwn[k+ksjh dks
c<+kok u feys] cSfdax Hkh tk;t+ ^djk* yh xbZ- u'khyh oLrqvksa ds mRiknu ;k lwn[k+ksjh tSlh Øwj O;oLFkk ij
jksd D;k bruh cM+h cqjkbZ gS fd blds fy, bLyke dks dB?kjs esa [kM+k fd;k tk,\ u'kk] lwn[k+ksjh] ft+LeQ+jks'kh
vkfn ls islk dekuk fdl lekt esa ekU; gS- gka] ;g t+:j gS fd vkt ds rd+ktksa ds fglkc ls bLyke dks

O;k[;k dh eSa ckr djrh gwa- eqlyeku vkSjrsa i<+& fy[kdj] d+qjku gh ls vius fy, jkLrs fudkyus dh tax
esa yxh gSa vkSj bls gh ^bLykfed Q+sfefuT+e* dgrs gSa- vHkh dqN fnu igys lbZnk gehn lkgsck us fudkg
i<+ok;k- cgqr loky mBs] dBeqYys gM+cM+k x, fd ;g D;k gqvk tks dHkh ugha gqvk- efgykvksa dk lhèkk&lk
rdZ dke vk;k fd bLyke vkSjr dks ugha jksdrk] cl mlesa ;g d+kcfy;r gksuh pkfg,- rks dkfcy vkSjr
d+kt+h cudj og lkjs jksy vnk dj ldrh gS tks ,d iq#"k dkt+h djrk gS- dBeqYys rks 'kk;n vHkh Hkh bl
ij jksd yxkus ds fy, gnhlksa ds iUus iyV jgs gksaxs ij gksus okyk dqN ugha D;ksafd d+kt+h dh ;ksX;rk Kku
r; djrk gS vkSj bLyke vkSjr dks Kku vtZu ls jksdrk ugha- vc crkb, bLyke elyk gS fd fir`lÙkk\
fir`lÙkk vkSjrksa esa ,sls rdZ djus dh 'kfDr ugha iuius nsrh- U;w;kdZ ls ysdj nf{k.k Hkkjr rd eqlyeku
vkSjrsa is'k&beke cuus dh Bkus gSa vkSj uekt+ Hkh i<+k pqdh gSa] fQj ogh rdZ fd dqjku ugha jksdrk cl
d+kfcfy;r gks- dgk tk ldrk gS fd fudkg ;k uekt+ i<+kus dh tn~nkstgn Hkh dksbZ ckr gS\ bldk tokc
;g gS fd ftl rjg foèkkf;dk esa efgykvksa dk gksuk muesa usr`Ro ds xq.k fodflr djrk gS mlh rjg èkkfeZd
lÙkk lzksrksa esa Hkkxhnkjh ls efgyk mRFkku o lcyhdj.k gksrk gSvkius
Hkkjrh; eqlyekuksa ij ,d vkSj rksger ;g yxkbZ fd ;s ^Hkkjrh;* ckn esa gS vkSj eqlyeku igysvki
tkurs gh gksaxs fd ;gwnh] blkbZ vkSj eqlyeku èkeZ esa nqYgu dh 'kknh dk fyckl lQ+sn gksrk gS- ij
D;k vkius dHkh fganqLrkuh eqlyeku nqYgu dks lQsn fyckl esa ns[kk\ og fganw nqYgu dh rjg yky tksM+k
igurh gS- vkSj fganw ijaijk dh gh rjg Hkkjrh; eqlyekuksa esa 'kqHk volj ij lQsn oL=kksa dks v'kqHk o 'kksd
dk izrhd Hkh ekuk tkrk gS- ;g fo'kq) Hkkjrh; ijaijk gS- ysfdu D;k vkius Hkkjrh; bZlkbZ] ;gwnh ;k ikjlh
nqYgu dks yky tksM+s esa ns[kk gS dHkh\ rks Hkkjr dh ijaijkvksa dks fdlus viuk;k\ 'kknh esa fganw jhfr&fjoktksa
dh vkSj Hkh dbZ felkys gSa 'kknh ds xhr] gYnh o esganh dh jLe vkfn- blh rjg n'kgjk o eksgjZe] fnokyh&'kcs
ckjkr] vkfn esa lhèkh lekurk,a ns[kh tk ldrh gSalwQ+
h ijaijk] et+kj ijLrh] ihjh&eqjhnh ngst izFkk] tkrh; Åapuhp] lHkh fganw èkeZ ds izHkko gSa- fganqLrkuh
eqlyeku fganqLrkuh feV~Vh esa jpk clk gSgka
vkius jk"Vª dk loky mBk;k ftl ij eq>s rkTtqc gqvk- jk"Vª tSlh lkezkT;oknh] Ñf=ke o cqtqZvk
ifjdYiuk ds fgek;rh vki tSls ekDlZoknh\ t+jk rhu eghus iqjkuk viuk laikndh; i<+ yhft,- dgha ,slk
rks ugha ^jk"Vª* dh vfXu ijh{kk dsoy vYila[;dksa ds fy, gS\ vkSj vki cgqla[;d oxZ ls gSa rks ^jk"Vª* dh
,slh&rSlh dj ldrs gSa\
pfy, ckr vkxs c<+krs gSa- 'kknh ds ckn yM+dh dk uke cnyuk ,d x+Sj&bLykeh vey gS tks Hkkjrh;
eqlyeku fganqvksa dh ns[kk&ns[kh djrk gS cfYd bLyke ds vuqlkj gj bUlku dh igpku mldh eka ds uke
ls r; gksxh bLyke esa vYykg ds ckn vxj dksbZ 'kf[+l;r gS rks og eka dh gS- #i, esa 75» gd+ eka dk
gS vkSj flQ+Z 25» cki dkvkius
dgk fd bLyke d+qcwy djus ij viuh igpku ls gkFk èkksuk iM+rk gS- vkius ftu efgykvksa dk
uke fy;k eq>s ugha ekywe fd fganw èkeZ esa jgrs gq, mudh igpku fdruh HkO; Fkh vkSj mUgsa ;g D;ksa djuk
iM+k ysfdu ;g t+:j gS fd ;g ekeyk Lo;a ukjh dh vius izfr psruk dk gS- vkfej [k+ku&fdju jko] 'kkg:[k+
[k+ku&xkSjh] vjckt+ [k+ku&eyk;dk vjksM+k] vt+g:n~nhu&laxhrk fctykuh] uokc ealwj vyh [k+ku iVkSnh&'kfeZyk
VSxksj] lSQ+ vyh [k+ku&ve`rk flag] bejku& tsfeek- ;g lc ft+ank felkys gSa fd ,slh dksbZ ikcanh ugha gS- dqN
det+ksj fL=k;ksa ds fu.kZ; dks bLyke ij u Fkksisa D;ksafd blds fo#) fdrus gh Hkkjrh; eqlyekuksa us fganqLrkuh
uke j[ks- eqx+y 'kkld vkSjax+t+sc us viuk uke uojax fcgkjh j[kk] ;qlwQ+ [k+ku&fnyhidqekj gks x,]
eqerkt+&eèkqckyk gks xbZ] ehuk dqekjh dk vlyh uke egtcha Fkk] l¸;n tokgj vyh tkQ+jh ^txnhi* gks x,-
bu lc us dyk o is'ks dh t+:jr iwjh djus ds fy, fganw uke j[ks- dHkh dksbZ Q+rok ugha vk;k] fdlh us ,rjkt+
ugha fd;k- gka ,d oxZ mu yksxksa dk t+:j gS tks bLyke et+gc esa vkLFkk ykrs gSa rks ^jke lsod* ls ^x+qyke
jlwy* cu tkrs gSa ;g mudh vkLFkk gS fd og fganw nsorkvksa ij j[ks uke NksM+dj eqfLye uk;dksa vkfn dk
uke pqusa ;k ughafnyhi
dqekj tc LosPNk ls lifjokj èkeZ ifjorZu djds vYykg j[kk jgeku ¼, vkj jgeku½ gks tkrs gSa
rks ;g mudh [kq'kh gS] bLyke dks muds fnyhi uke ls dksbZ vkifÙk ugha- cgqr ls fons'kh xksjs tks cukjl ds
xaxk?kkV ij fpye [khaprs fey tk,axs vius fganw uke j[k ysrs gSa- gjs jkek&gjs Ñ".kk ^dYV* ds dbZ fonsf'k;ksa
us vius vaxzst+h uke NksM+dj fganw uke j[ks- ;g futh Q+Slyk gksrk gS- tgka rd bLyke dk loky gS [+kqn eqgEen
lkgc ;k muds fj'rsnkjksa o vjcokfl;ksa us vius uke ugha cnys- ;g lc bLyke iwoZ ds uke gSa tks tl ds
rl bLyke esa vk x,- ;gwfn;ksa ls reke >xM+s ds ckotwn eqlyeku ;gwnh uke tSls ewlk] gk:u] bLekbZy]
lkjk] nkÅn] lqyseku] blgkd+] ;qlwQ] bZlk] efj;e o 'khck tSls ;gwnh uke [+kwc j[krs gSabLyke
dh u viuh dksbZ Hkk"kk gS] u laLÑfr] u os'kHkw"kk] u [kkuk] u jax] u fnu- eqfLye lektksa us ;g
Q+Slys vius LFkkuh; okrkoj.k ds vkèkkj ij fy, gSa- eè; ,f'k;k vkSj :l ds eqfLye bykd+ksa esa vjch uke
ugha feyrs] mlh rjg phu esa Hkh phuh uke ds eqlyeku gksrs gSa- vkSj ;g eqlyeku dksjek&fcj;kuh&flaobZ
Hkh ugha [kkrsinsZ
ds loky ij vkidh ckr cgqr gn rd lgh gS fd ekufld vuqdwyu dks LosPNk dk uke ugha fn;k
tk ldrk- ;d+huu T+;knkrj vkSjrsa blh vuqdwyu ds dkj.k cqd+kZ igurh gS- dqN bldk fojksèk Hkh djrh gSa
ysfdu bl ij rkTtqc u dfj;s fd dqN vkSjrsa cqdsZ esa viuh csjge x+jhch Nqikdj] 'kfe±nk gq, cx+Sj ?kj ls
ckgj dh nqfu;k esa vius dke fuiVk ikrh gSa- 'kk;n bl rcds dh fL=k;ksa ls vkidh dksbZ okD+Q+h;r ugha-
;d+huu eSa viuh ckr cp&cpdj dg jgh gwa D;ksafd eq>s ;g [k+;ky j[kuk gS fd lkjh nqfu;k dk eqlyeku
bdgjh igpku ugha gS- nwljs ;g fd eqlyeku efgykvksa ds xaHkhj elys x+Sj&t+:jh izfrfØ;kvksa dk f'kdkj u
gks tk,a- D;ksafd bl LraHk esa ftl lkQ+xksbZ ls eqlyeku enZokfn;ksa dks vkbZuk fn[kk;k tk jgk gS mls ipk ikuk
muds fy, eqf'dy gksxk- vki ftl eklwfe;r ls ^lc èkku ckbl ialsjh* dj ysrs gSa] og ^bLykfed Q+sefuT+e*
dks etcwr ugha] det+ksj djsxk] nwljs ^gal* tSlh egRoiw.kZ if=kdk dk d+herh Lisl Hkh lrgh LVhfj;ks Vkbfiax
dk f'kdkj gks tk,xk tks eqlyeku vkSjrksa dk cM+k uqd+lku gksxk- vkius bl fo"k; ij LFkk;h LraHk 'kq: dj
eqlyeku efgykvksa dh tn~nkstgn dks tks cgqewY; leFkZu fn;k gS og fganh if=kdkvksa us igys dHkh ugha fd;k bl
lacy ds fy, Hkkjrh; eqfLye Q+sefuT+e vkidk vkHkkjh jgsxk इस्लाम  esa ^fgtkc* vkSj insZ ds ckcr tks fgnk;rsa gSa mu ij vxys vadksa esa ckr gksxh] D;ksafd rkfyckuh
cqd+kZ ;k inkZ fdlh Hkh rjg lgh ugha Bgjk;k tk ldrk- ;g Hk; vkSj etcwjh dh fu'kkuh gS-

12 comments:

  1. फ़ोन्ट तो गड़बड़ा गए सारे के सारे, कुछ समझ नहीं आ रहा।

    ReplyDelete
  2. ये किस देश प्रदेश की भाषा है, सीबा जी!

    ReplyDelete
  3. सब धान बाइस पंसेरी?
    शीबा असलम फ़हमी
    प्रिय राजेन्द्र जी,
    हंस (मई 2009) में आपने अपनी समझ से बड़े ज़रूरी और चुनौतीपूर्ण सवाल उठाए हैं. स्वात व इसके आसपास
    चल रहे तालिबानी तांडव से यह सवाल और भी महत्वपूर्ण व सामयिक हो उठे हैं. आपने सही कहा है कि मैं मुस्लिम
    लड़कियों के पक्ष में जो तर्क दे रही हूं वह कुरान से ही हैं और यह भी सही है कि ‘मैं भी अपनी बातें बच-बच
    कर कह रही हूं.’
    इस स्तंभ के पहले लेख में ही मैंने घोषित रूप से तय किया था कि यह स्तंभ ‘मुसलमान महिलाओं को पितृसत्ता
    व मर्दवादी सामाजिकता से मुक्त कर न्याय, बराबरी और आत्मसम्मान का रास्ता दिखाने के लिए है जो कि उन्हें
    उनके धर्म ने हज़ारों साल पहले दिया था पर मध्य एशिया, अरब भूमि के क़बीलाई संस्कृति के समाजों ने, इस्लाम
    की विशुद्ध मर्दवादी व्याख्या कर हड़प लियाकुरान
    के माध्यम से नारीवादी चेतना विकसित करना आपको क्यों अटपटा लग रहा है यह मेरी समझ में नहीं
    आया क्योंकि इस ही संपादकीय में स्वयं आप लिखते हैं कि ‘‘उधर ‘स्वात’ में तालिबानों के क़हर की दिल दहला
    देने वाली तस्वीरें रोज़ आ रही हैं और सारे मुस्लिम संगठन चुप हैं...किसी ने नहीं कहा कि यह इस्लाम हमारा नहीं
    है...?’’

    ReplyDelete
  4. किसी ने नहीं कहा कि यह इस्लाम हमारा नहीं
    है...?’’ राजेन्द्र जी आपको तालिबानों की भत्र्सना मुस्लिम संगठनों से ही क्यों चाहिए? इसलिए कि आप जानते
    हैं कि बाक़ी की दुनिया इन्हें कितना भी ग़लत ठहराए, जब तक खुद इस्लामी दुनिया इनकी हरकतों को इस्लाम
    विरोधी कहकर इन्हे अपराधी घोषित नहीं करेगी यह अपने एजेंडे को ‘मज़हब की खि़दमत’ कहकर स्वःस्फूर्त बने
    रहेंगे. बिल्कुल यही मामला मुसलमान औरतों पर इस्लाम के नाम पर लग रही पाबंदियों का भी है. तालिबानी दिमाग़
    जहां-जहां भी मुसलमान औरतों पर इस्लाम के नाम पर दमन कर रहे हैं वहां-वहां इस्लाम के ज़रिए ही उन्हें सही
    रास्ता दिखाने की ज़रूरत हैइसी
    संदर्भ में आपके संपादकीय का दूसरा और ज़्यादा महत्वपूर्ण विरोधाभास पेश करती हूं. आपने फ़िल्म ‘ख़ुदा
    के लिए’ का उलाहना दिया कि ऐसी अच्छी फ़िल्में मुस्लिम समाज में व्यापक बहस क्यों नहीं पैदा करतीं? राजेन्द्र
    जी इस फिल्म का सार क्या है? यही न कि तालिबानी मौलाना ताहिरी के कट्टर इस्लामदृजिसमें जेहाद, संगीत
    से नफ़रत, स्त्राी-शिक्षा का विरोध, मर्दवादी स्त्राी-पुरुष संबंध, आधुनिक वस्त्रा-शिक्षा-जीवनशैली का विरोध, पश्चिम का
    विरोध का अत्यंत तार्किक उत्तर मौलाना वली इस्लाम की शिक्षा, इतिहास व व्याख्या से देकर मौलाना ताहिरी को
    परास्त कर देते हैं. फ़िल्म में यह दृश्य पाकिस्तान के एक ‘सेक्यूलर-कोर्ट’ में घटित होता है जिसके न्यायाधीश को
    भी मौलाना ताहिरी इस्लाम के नाम पर ज़लील करके चुप करा देता है आधुनिक-सेक्यूलर क़ानून के तर्क मौलाना
    ताहिरी को विचलित नहीं कर पाते. वह जज का अपमान कर आधुनिक कानून व्यवस्था को इस्लाम विरोधी कहता
    रहता है. पर जब मौलाना वली इस्लाम में संगीत, शिक्षा, निकाह में स्त्राी की मर्ज़ी, हलाल कमाई, आधुनिक वेशभूषा
    व वस्त्रा आदि को इस्लामी इतिहास, क़ुरान की व्याख्या व मोहम्मद साहब के जीवन से उदाहरण लेकर सिद्ध करते
    हैं तो मौलाना ताहिरी के ग़ुब्बारे की हवा निकल जाती है और उसका गुमराह किया नौजवान सरमद उसकी ही मस्जिद
    में जींस-टी-शर्ट में अज़ान देकर उसे चुनौती भी दे पाता है. राजेन्द्र जी इस फिल्म की मुंह भर-भरकर तारीफ़ करने
    के बाद आप मुझे उलाहना दे रहे हैं कि ‘मैं क़ुरान हदीस व सुन्नः को ही नए संदर्भों में व्याख्यायित करने लगती
    हूं?’’

    ReplyDelete
  5. आपके अनुसार मुसलमान औरतों में नारी चेतना जागृत करने के लिए मुझे पश्चिम की ‘रैशनेल्टी’ यानी वैज्ञानिक
    जून, 2009
    ‘तार्किकता’ का उदाहरण देना चाहिए? वेटिकन के पादरियों कि मिसालें देनी चाहिए? जो मनुष्यों को इस ‘तर्क’
    पर ‘सन्त’ की उपाधी से विभूषित करते हों कि उस इंसान ने ‘मिरेकल’ या ‘अलौकिक चमत्कार’ कर दिखाया हो?
    मदर टेरेसा का उदाहरण अभी पुराना नहीं हुआ है. वैज्ञानिक तार्किकता और अलौकिक चमत्कारदृदोनों को आत्मसात
    कर पानेवाली आपकी तार्किकता का आधार शायद यह है कि पश्चिम समाज के आधुनिक इतिहास यानी
    ‘एन्लाइटेन्मेन्ट’ का आपने अध्ययन किया है और उसके द्वारा दिए गए बराबरी, क़ानून का राज, व्यक्तिवाद, न्याय,
    स्वतंत्राता, प्रजातंत्रा जैसे मूल्यों को विशुद्ध यूरोपीय आविष्कार मान लिया है. और वेटीकन व कैथोलिक चर्च क्योंकि
    यूरोप में स्थित हैं, तो यह भी इसी आधुनिक
    ख़ैर, यहां मुद्दा यह नहीं है. मुद्दा यह है कि भारत जैसे तीसरी दुनिया के सबसे दबे-कुचले, अनपढ़, दमित
    स्त्राी वर्ग से आप वैज्ञानिक व रैशनल डिस्कोर्स में बात करना चाहते हैं. क्या यह कुछ जल्दबाज़ी नहीं है? आपके
    संपादकीय का तीसरा विरोधाभास यह है कि आप तुर्की के इस्लाम या इंडोनेशिया के इस्लाम की तारीफ़ भी कर
    रहे हैं और पूरे विश्व के इस्लाम को एक भी मान रहे हैं. क्या आप यह नहीं देख पाते कि जो क्षेत्रा इस्लाम पूर्व
    की क़बीलाई व्यवस्था में जकड़े हैं वहीं पर स्त्रिायों पर अत्याचार अधिक हैंअरब,
    अफ्ऱीक़ा और मध्य एशिया के अफ़गानिस्तान और पाकिस्तान जिसमें, भारतीय पंजाब-हरियाणा व दिल्ली
    भी शामिल हैं, में क़बीलाई चरित्रा व मानसिकता स्त्राी दमन का कारण हैं. हरियाणा, पंजाब व दिल्ली में ‘आॅनर
    किलिंग’ ‘आधुनिक’ हिंदू समाज की क्रूर सच्चाई है या नहीं? आपको ज्ञात होगा कि आज भी बेटी के ग़ैर-बिरादरी
    में शादी कर लेने पर अमरीका-कनाडा में बसे हिंदू व सिख परिवार ‘सुपारी-किलिंग’ करवा देते हैं.

    ReplyDelete
  6. अमरीकी ‘रैशनल’
    आधुनिकता भी इन क़बीलाई परिवेश से आए पढ़े-लिखे विश्व नागरिकों का कुछ नहीं बिगाड़
    पाती. हरियाणा और पंजाब में तो पुलिस व स्थानीय नेता भी इन ‘आनर-किलिंग’ को अनाधिकारिक रूप से जायज़
    ठहराते हैं क्योंकि उनके अनुसार भी ऐसी ‘कुलटा बेटियों’ को यही सज़ा मिलनी चाहिए.
    दूसरी तरफ़ रूस से अलग हुए पांच मुस्लिम देशों, चीनी मुस्लिम समाज, इंडोनेशिया, मलेशिया, सिंगापुर, और
    योरोप व अमरीका जहां मुसलमान दूसरी सबसे बड़ी आबादी हैं से ऐसी घटनाएं सुनने में नहीं आती, हालांकि इस्लाम
    की लिबरल व्याख्या की कोशिशें यहां भी जारी हैं. उत्तर भारतीय मुस्लिम समाज भी क़बीलाई व फ़्यूडल चरित्रा से
    मुक्ति नहीं पा सका है. जबकि महाराष्ट्र, केरल आदि के मुसलमान उर्दू-हिंदी क्षेत्रा के मुसलमानों से ज़्यादा लिबरल
    व शिक्षित हैंआपने
    मेरे बहाने मुस्लिम समाज से यह भी पूछा है कि ‘‘क़ुरान और शरियत के इंटरप्रिटेशन (व्याख्याएं) ही
    तालिबानों के दिशा-निर्देश बनते हैं और फ़िदायीनों का निर्माण करते हैं.’’ राजेन्द्र जी, काश धर्म के प्रति आपकी
    झुंझलाहट और ग़ुस्सा, आपको और गहरे अध्ययन व विश्लेषण की ओर प्रेरित कर पाता. ‘तालिबान’ के कुकर्मों
    से लेकर बेमानी हिंसा तक जो कुछ भी हो वह इस्लाम या क़ुरान सम्मत इसलिए नहीं बन जाता क्योंकि उसे अरबी
    भाषा के किसी शब्द से पुकारा जाता है. ‘तालिबान’, ‘मुजाहिदीन’, ‘लश्कर’, ‘फ़िदायीन’, ‘जेहादी’, ‘जैश’ आदि
    अरबी शब्दों की आड़ में अफ़ीम व अवैध हथियारों से लेकर सिखों से जज़िया वसूलने जैसे जो गोरखधंधे चल रहे
    हैं वह विशुद्ध आधुनिक ‘पर्वरजन’ हैं, जिन्हें ‘इस्लामी’ गतिविधियां मानकर आप इन गिरोहों को धार्मिक वैधता
    दे रहे हैं. विश्व बिरादरी इनकी हरकतों को जितना ‘इस्लाम’ से जोड़ेगी यह उतने ही मजबूत होंगे. इन घटनाओं
    को ‘इस्लामिक आइडियल टाइप’ की पहचान देना ही सबसे ख़तरनाक भूल है. और यह आपसे चाहते भी बस इतना
    ही हंै कि इनकी हरकतों को ‘इस्लामी’ माना जाए जिससे जनसाधारण भ्रमित हो और इन्हें व्यापक विरोध का सामना
    न करना पड़े. उनके मनमुआफ़िक़ यह ग़लती आप जानकारी की कमी के कारण करते हैं, अमरीका इसे प्रायोजित
    करता है, जिससे कि उसे इन समाजों को ‘सुधारने, लोकतांत्रिाक व सभ्य’ बनाने के अधिकार प्राप्त हो सकें. (ज़रा
    एडवर्ड सईद की ‘ओरियन्टल थियरी’ दोहरा लीजिए तो समझ में आएगा कि) यह अरबी नामोंवाले आंदोलन व
    दस्ते जो 1400 सालों में कभी नहीं बने, अब कुकुरमुत्तों की तरह क्यों उग रहे हैं?

    ReplyDelete
  7. ‘तालिबान’ का प्रायोजक अमरीका के सिवा कौन है? क्या ज़्यादा बड़ा सवाल यह नहीं कि इन अवैध गिरोहों
    के पास कभी न ख़त्म होने वाली अत्याधुनिक हथियारों की निर्बाध सप्लाई कहां से हो रही है? क्या इनके पास
    बम, लांचर, मोर्टार, मिसाइल, टैंक, ए.के. 47 ग्रेनेड जैसे अतिआधुनिक हथियारों व उपकरणों की उत्पादन तकनीक
    व क्षमता है? यह कैसे अचानक इन महंगे और सटीक हथियारों के साथ बिलों से प्रकट हो जाते हैं? कौन-सा बाज़ार,
    तंत्रा व एजेंसियां है जो हथियारों की बिक्री व उन्हें इन हवाई-पट्टीविहीन बीहड़, दुर्गम स्थानों तक ‘एयर लिफ्ट’
    व ‘ड्राप’ कर रही हैं? इतनी बड़ी संख्या में सामरिक साज ओ सामान बिना किसी की नज़र में आए, इन ठिकानों
    पर कैसे पहुंचता है? विश्व भर में चल रही मन्दी का असर इन गिरोहों की गतिविधियों पर क्यों नहीं दिखता?
    या कहीं ऐसा तो नहीं कि किन्हीं ‘बाज़ारों’ की मंदी को इन्हीं ख़रीदारों के ज़रिए उबारा जा रहा हो?
    अमरीका, इज़्राइल, चीन जैसे हथियारों के दुकानदारों की ‘धर्मनिरपेक्ष तटस्थता’ उनसे यह सवाल नहीं करती
    कि आखि़र उनका बनाया-बेचा माल कहां खप रहा है? जब भारत में आतंकवादियों से मिले छोटे हथियारों से यह
    तुरंत चिन्हित हो जाता है कि यह हथियार कहां का उत्पादन है तो वहां युद्ध-टैकों व रॉकेट-लांचरों के खुलेआम
    प्रयोग के बावजूद यह सवाल कोई क्यों नहीं उठाता? स्वयं अमेरिका ही यह बुनियादी सवाल क्यों नहीं करता?
    आखि़र यह कोई छोटे-छोटे हीरे-जवाहर तो है नहीं कि पठान अपनी शलवार के नेफ़े में छुपाकर तस्करी कर ले?
    इनके उद्गम का स्थान तय कर ‘सप्लाई पर रोक’ लगाने के लिए अमरीका जैसा सक्षम गु़ंडा चुप क्यों है? क्योंकि
    उसका मक़सद दोनों पक्षों को हथियार बेचते रहना है बस.
    ख़ैर ‘इस्लामिक फ़ेमिनिज़्म’ का मक़सद मुसलमान औरतों को यह बताना है कि इस्लाम में औरत होने का
    मतलब अशिक्षित, पराश्रित, ग़रीब, बेसहारा, दुखी, घर की चारदीवारी में बंद अज्ञानी होना नहीं होता, (उपरोक्त
    बयान का मतलब यह भी नहीं कि वर्तमान में मुसलमान औरतें दुखी ही हैं) जैसा कि कठमुल्ले चाहते हैं. लेकिन
    ताज्जुब यह है कि हर बार आप जैसे तार्किक बुद्धिजीवी इन कठमुल्लों द्वारा प्रस्तुत ‘स्टीरियोटाइप’ की ताईद क्यों
    करते हैं? ये कहते हैं इस्लाम औरत को मर्द से कमतर समझता है तो आप मान लेते हैं, ये कहते हैं कि तालीबानी
    व्यवस्था ही इस्लामी व्यवस्था है, तो आप भी यही कहते हैंहर
    बार आप तालिबानों, मुजाहिदीनों के पाले में क्यों चले जाते हैं? कठमुल्लों, दहशतगर्दों की अतार्किक व
    हिंसक गतिविधियों को आम मुसलमान इस्लामी नहीं मानता, पर आप मानते हैं. इन सत्तालोलुपों के साथ हां मंे
    हां मिलाने में आप सदैव-सहर्ष तैयार क्यों रहते हैं? अगर आप नहीं जानते क्यों, तो मैं ही बताए देती हूं, अपनी
    तमाम हमदर्दी और नेकनियती के बावजूद सच्चाई यह है कि आप ‘इस्लाम’ को नहीं जानते. आप स्वयं स्वीकार
    चुके हैं कि आपने इस्लाम के मूलग्रंथ क़ुरान के पन्ने कभी नहीं पलटे. आप मुझे चुनौती देते हैं कि जिस तरह
    आपने हंस में 24 साल हिंदू धर्म की बखि़या उधेड़ी है क्या मैं ऐसा कर सकती हूं?
    क्या आपको लगता है कि हिंदू-धर्म और इस्लाम एक दूसरे की कार्बन कॉपी हैं? क्या सभी धर्म एक-दूसरे की
    नक़ल मात्रा हैं? ईश्वर के अस्तित्व को स्वीकारने के अलावा कोई दूसरा बिंदु नहीं जो किन्हीं दो धर्मों में समान हो,
    (यहां तक कि ईश्वर के गुण भी सभी धर्मों में अलग हैं). आप हिंदू-धर्म ग्रंथों को पढ़ना ही काफ़ी समझते हैं? कि
    कु़रान, शरीयत और हदीस शायद गीता, वेद-उपनिषदों के अरबी संस्करण हैं? आप तार्किकता को इंसान की सर्वोच्च
    उपलब्धि मानते हैं और ख़ुद को एक तार्किक इंसान. तो यह कैसी तार्किकता है जो किसी दर्शन को जाने-समझे
    बिना ही, किसी दूसरे दर्शन के उदाहरणों से रद्द कर देती है? क्या भारत में लोकतंत्रा और संविधान आधारित
    व्यवस्था की कामयाबी पर इसलिए शंका जताई जा सकती है कि वह पड़ोसी मुल्कों पाकिस्तान-अफ़गानिस्तान में
    पिट गई?

    ReplyDelete
  8. नब्बे के दशक से जब एक के बाद एक साम्यवादी गढ़ सांचे में से लेकर भारत तक क्या साम्यवादी विचार अपनी आंतरिक शक्ति से पूंजीवादी ग़ैर समानता व शोषण का हल नहीं देता? सोवियत रूस के बिखरते ही भारत की कम्युनिस्ट पार्टियों को ख़त्म करने की पैरवी क्यों नहीं हुई? इसलिए
    कि आप इस विषय को जानते-समझते हैं और यह जानना-समझना ही बुनियादी शर्त है राय या फ़ैसला देने कीचलिए,
    क़ुरान, हदीस, इस्लामी फ़िक़्ह जैसे गाढ़े पाठ न सही आप तो तालिबान और अलक़ायदा के परे
    मुस्लिम-जगत से संबंधित ‘ख़बरें’ भी नहीं पढ़ते शायद. शिक्षित मुसलमान जिस इस्लाम को बड़े फ़Â़ के साथ
    अपनाता है अभी आपने उस पर अपनी मेहरबान नज़र नहीं डाली है. फ़िल्म ‘ख़ुदा के लिए’ के मंसूर, सरमद और
    मौलाना वली आज बड़ी तादाद में हैं और बढ़ रहे हैं. उन्हें क़ुरान या कम्प्यूटर, इल्म या इबादत, ईमान या तर्क,
    जैसे चुनाव नहीं करने पड़ते. आप ‘कठमुल्ला’ ‘इस्लामिक फंडामन्टलिज्म’, ‘इस्लामी आतंकवाद’ आदि शब्दों से
    तो अवगत हैं पर ‘मॉडरेट-मौलाना’, ‘इज्तेहाद’, ‘फेथ विदआउट फियर’, जैसे लोकप्रिय टर्म और इनमें निहित
    संभावनाओं से वाक़िफ़ नहीं.
    यदि क़बीलाई, बर्बर, सत्तालोलुप मर्द धर्म को विकृत कर औरतों पर ज़ुल्म तोड़ रहे हैं तो यह और भी ज़्यादा
    जरूरी है कि उन्हें उन्हीं के हथियारों से परास्त किया जाए.
    आपने ख़ुद कहा कि ‘अनपढ़ और ख़ुद मुख़्तार रहनुमा कब तक आम मुसलमान की नियति तय करते रहेंगे?’
    तो अनपढ़ रहनुमाओं की जहालत और सही इस्लाम को सामने लाने दीजिए. अगर कोई अपराधी संविधान के किसी
    पहलू का इस्तेमाल अपने अपराध को जायज़ ठहराने के लिए करता है तो उस क़ानून की सही व्याख्या करने की
    ज़रूरत है या संविधान को उखाड़ फेंकने की? आखि़र पूरे देश में न्यायपालिका का बुनियादी काम संविधान की
    सही व्याख्या ही तो है. इस्लाम की सही व्याख्या से इन क्रूरताओं को ग़ैरइस्लामी और गुनाह सिद्ध किया जाना
    इसीलिए ज़रूरी है जिससे यह गुनहगार ‘ख़ुदाई खि़दमतगार’ होने का
    राय है कि ‘‘सारे धर्म अतीत-जीवी क़बीलाई या सामंती होते हैं...अतीत को ही यूटोपिया मानते हैं.
    ..इस्लाम जिस सख़्ती और क्रूरता से धर्म राज्य स्थापित करना चाहता है वह मानवीय तस्वीर नहीं रखता.’’ यह सही
    नहीं है क्योंकि इस्लामी इतिहास में कोई आदर्श काल अभी तक नहीं माना जाता जिसको पुनःस्थापित करने का
    आग्रह मुसलमान करें. दूसरे, मुहम्मद साहब ने अरबवासियों को पहला आदेश ही क़बीले की वफ़ादारियों से मुक्त
    होने का दिया. उन्होंने ख़ानदान व बाप-दादा की परंपराओं की पाबंदी बंद कराई. उन्होंने गांव, क़बीला, देश, भाषा,
    नस्ल, परंपराएं व रीति रिवाज के बंधनों से मुक्ति के साफ़ आदेश दिए. सारी दुनिया के मुसलमानों को एक ‘उम्मः’
    की पहचान दी. जहां तक इस्लाम के क्रूरता और तलवार की नोक पर फैलने का आरोप है, ज़रा बताइए कि इतिहास
    में कभी किसी इस्लामी सेना ने चीन, मलेशिया, इंडोनेशिया पर आक्रमण किया था? नहीं. तो वहां इतनी बड़ी तादाद
    में विशुद्ध चीनी नस्ल के मुसलमान कहां से आ गए? चलिए इतिहास छोड़िए, वर्तमान में आइएदृइस आधुनिक
    युग में जब अमरीका-योरोप-इज़्राईल का समूचा प्रचारतंत्रा तालिबान, जेहाद, फ़िदायीन, आतंकवाद, को इस्लाम से
    जोड़कर ‘हंटिग्टनी’ फ़तवा दे रहा है, तब इस व्यापक प्रचार को अनदेखा कर पश्चिमी-अमरीकी-तार्किक गोरों के
    बीच इस्लाम कैसे फैलता जा रहा है? आज कौन-सी तलवार इनके गले पर रखी है? आज लगभग भारत की मुस्लिम
    आबादी के बराबर ही चीन की मुस्लिम आबादी जो स्वेच्छा से इस्लाम में है. चीन में इस्लाम को न सरकारी संरक्षण
    प्राप्त है, न वहां इस्लाम की तलवार है, न मुस्लिम@अरब देशों से निकटता. योरोप व अमरीका में मुसलमान दूसरी
    सबसे बड़ी आबादी कैसे बन गए? अमरीका, फ्रांस, ब्रिटेन, जर्मनी आदि पर कब किसी मुस्लिम सेना ने आक्रमण
    किया?

    ReplyDelete
  9. यह लेख कृति फोंट मे है इसे युनिकोड मंगल मे परिवर्तित कर पोस्ट करे.


    धन्यवाद.

    ReplyDelete
  10. Arey merey Blog par itna kuchh chal raha hai aur mujhey pata hi nahin. Na to Vijay Gaur aur Janvijay ke sawal maloom na hi Sanjeev Tiwari ne yeh jo upkaar kiya woh hi pata ! Yeh bhi nahi pata tha ki fonts ki koi gadbadi chal rahi hai, mere screen par sab theek hi dikha tha jab post kiya tha. Comments ka koi notification bhi nahi aata. Hindi font ka mamla mere bass ka hi nahin shayad :(
    Shayad print tak hi simit rehna chahiye abhi... !
    Khair aap sab ka aur Sanjeev Tiwari ka bahot shukriya.

    Sheeba

    sheeba_atplus@yahoo.com

    ReplyDelete
  11. लेख पूरा पढ नहीं पाया, लेकिन थोडा पढकर अन्‍दाजा लगाया है अच्‍छा लिखा होगा, पहली नजर में तो इतना देख पाया क़ुरआन शब्‍द ठीक नहीं लिख रहीं हैं देखें quranhindi.com , इधर मेरी मदद चाहिए तो बताईएगा, बाकी क्‍या कहूं माशाअल्‍लाह आप समझदार हैं

    हो सके तो हमारी अन्‍जुमन की तरफ आइये उधर आज है

    औरंगज़ेब ने मन्दिर तोडा तो मस्जिद भी तोडी लेकिन क्यूं? aurangzeb
    http://hamarianjuman.blogspot.com/2010/01/aurangzeb.html

    ReplyDelete
  12. Hans me padhkar aapko dhundhte hue yaha aaya lekin pata nahi aapne ye matter kis Font me dal rakha hai mohtarma.........

    please internet ki univercel hindi font Mangal (unicode) me dalein to mujhe jaisa aam aadmi i means mango ppl bhi padh sake, shukriya....
    aap aise krutidev ya other kisi font me blog par matter dalengi to vahi padh payenge jinke computer me ve spcl font honge, ab dekhiye na mere systm me kruidev font hai fir bhi nahi padh paa raha hu, isliye ek hi upaay mangal me blog likhne ka

    fir se shukriya....advance me ki agli baar yaha mangal font me matter milega

    ReplyDelete